सारण मंडल कारा के कुख्यात कैदी ने कोर्ट में इच्छा मृत्यु के लिए किया प्रेयर

0
144

Chhapra Desk- छपरा मंडल कारा के एक कैदी द्वारा सोमवार को कोर्ट में उपस्थित होने के दौरान इच्छा मृत्यु का प्रेयर किए जाने के बाद मंडल कारा एवं जिला प्रशासन में हड़कंप मचा है. उसने इच्छा मृत्यु के अपने प्रेयर में पुलिस पदाधिकारियों पर भी  दोषारोपण किया है. विदित हो कि अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश-6 अंजनी कुमार सिंह के न्यायालय में एक जानलेवा हमले मामले में आरोपी विजय कुमार उर्फ मुन्ना ठाकुर को आज मंडल कारा से न्यायालय में हाजिर होने के लिए लाया गया था. कोर्ट में  प्रस्तुत होने के बाद उसने कोर्ट को एक आवेदन दिया, जिसमें उसने कोर्ट से अपनी इच्छा मृत्यु का आदेश मांगा है. उसने अपने आवेदन में लिखा है कि वह 1 जनवरी 2016 से उसे शुगर, ब्लड प्रेशर, किडनी, हृदय रोग संबंधी गंभीर बीमारियों से ग्रसित है. जिसके कारण मंडल कारा से इलाज के लिए उसे चिकित्सकों ने पीएमसीएच पटना भी भेजा था, जहां वह 19 दिनों तक भर्ती रहा. पीएमसीएच के डॉक्टरों ने उसे पुनःजांच हेतु बुलाया था, लेकिन स्थानीय कारा कर्मचारी तथा पुलिस अधीक्षक सारण जानबूझकर उचित इलाज उसका नहीं करा कर उसे प्रताड़ित कर रहे हैं और उसे दूसरे जेल में स्थानांतरित करने का आदेश दिए हैं.

उसने यह भी आरोप लगाया है कि पुलिस अधीक्षक सारण उसे जानबूझकर प्रताड़ित कर रहे हैं. कुछ दिन पूर्व जेल में ही उसे एक कैदी की हत्या करने के लिए पुलिस अधीक्षक सारण द्वारा कहा गया था. उसने इंकार कर दिया उसके बाद उसे और प्रताड़ना दिया जा रहा है तथा उसका उचित इलाज नहीं कराया जा रहा है. इन सभी कारणों से वह अपनी इच्छा मृत्यु का आदेश न्यायालय से चाहता है. बताते चलें कि आरोपी विजय कुमार उर्फ मुन्ना ठाकुर दर्जनों अपराधिक मामलों में आरोपी है और मंडल कारा छपरा में बंद है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here