Home E-paper NEET में केन्द्र सरकार द्वारा ओबीसी वर्ग के लिए 27% आरक्षण बहाल करना ओबीसी के साथ छलावा : बीरेन्द्र गोप

NEET में केन्द्र सरकार द्वारा ओबीसी वर्ग के लिए 27% आरक्षण बहाल करना ओबीसी के साथ छलावा : बीरेन्द्र गोप

by Sunil Kumar
0 comment

Gaya Desk- गया में ओबीसी महासभा बिहार के प्रदेश अध्यक्ष सह प्रदेश महासचिव राजद बिहार बीरेन्द्र कुमार उर्फ बीरेन्द्र गोप तथा ओबीसी महासभा बिहार के प्रदेश प्रवक्ता सुभाष यादव ने संयुक्त वयान जारी कर नीट (NEET) में केन्द्र सरकार द्वारा 27% आरक्षण बहाल किये जाने पर दुख व्यक्त करते हुए कहा कि केन्द्र सरकार का ये निर्णय 52% आबादी वाले ओबीसी वर्ग के साथ धोखा है. बीरेन्द्र गोप ने बताया कि संविधान प्रदत्त अधिकार ओबीसी वर्ग के लिए 27% आरक्षण जो पहले से मिल रहा था उसे ही समाप्त कर वापस करना कहीं से स्वागत योग्य नहीं है. असल तो केन्द्र सरकार कि मंशा ओबीसी के आड़ में सवर्णों को 10% आरक्षण देना था जो ओबीसी वर्ग के साथ बेईमानी है.

बीरेन्द्र गोप ने कहा कि पहले से मिले हुए अधिकार को छीनकर वापस करना कहाँ से न्याययोचित है. अगर 10% आबादी वाले सवर्णों को 10% आरक्षण का प्रावधान किया गया है तो 65% आबादी वाले ओबीसी वर्ग को 65% क्यों नहीं? बीरेन्द्र गोप ने आर एस एस के कठपुतली ओबीसी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मांग किया है कि अगर सही मायने में आप ओबीसी वर्ग के हिमायती हैं तो मण्डल कमीशन के सिफारिशों को पूर्ण रुपेण लागू कर तथा क्रीमीलेयर का असंवैधानिक बाध्यता को समाप्त कर जाति वार जनगणना कराकर उनके साथ हो रहे हकमारी को समाप्त करें,यही ओबीसी वर्ग का सबसे बड़ी जीत होगी. साथ ही साथ ओबीसी, एससी/एसटी के सांसदों से भी अपील किया है कि आप संसद में सिर्फ ताली बजाने के लिए नहीं गये हैं बल्कि उनके अधिकारों की परवाह करने एवं रक्षा करने गये हैं. ताली बजाते हुए तो देश के हर कोने में, चौक-चौराहों पर ढेरों किन्नर मिल जायेंगे.

Sunil Kumar
Author: Sunil Kumar

You may also like

Leave a Comment

Translate »